Shrikhand Benefits Ayurveda: श्रीखंड के सेवन के आयुर्वेदिक फायदे।

दोस्तों, आप सब ने श्रीखंड तो खाया ही होगा यह खाने में बहुत स्वादिष्ट होता है, यह शरीर के सभी अंगो के लिए एक बहुत ही फायदेमंद होता है। इसके सेवन के जितने लाभ है उतने लाभ तो किसी रसायन से भी नहीं मिलते बस आवश्यकता है तो इसे उचित तरीके से आयुर्वेदिक पद्दति से बनाने की। तो दोस्तों हम इस लेख में श्रीखंड के फायदे आयुर्वेद में (Shrikhand Benefits Ayurveda) देखेंगे।

श्रीखंड के फायदे आयुर्वेद में – (Shrikhand Benefits Ayurveda)

1. श्रीखंड के सेवन से आँखें तेज़ होती है।

2. श्रीखंड के सेवन से त्वचा कांतिमान (चमकदार) होती है।

3. श्रीखंड के सेवन से वीर्य बहुत बनता है, स्त्री और पुरुष दोनों के लिए वीर्य का बनना जरुरी है, वीर्य की वृद्धि से शरीर में ओज की वृद्धि होती है, यह ओज हार्ट (हृदय) और दिमाग (ब्रेन ) को शक्ति प्रदान करता है।

4. श्रीखंड का सेवन पाचन तंत्र के लिए अति उत्तम है, क्योंकि इसमें मौजूद मीठे दही का चक्का और सामग्री पाचन तंत्र को मज़बूत बनाने में बेहद सहायक है।

5. श्रीखंड का सेवन इम्युनिटी बढ़ाने वाला है, क्योंकि इसमें मौजूद दही, मसाले और केसर आदि इम्युनिटी बढ़ाने में बेहद फायदेमंद है।

6. इसमें अच्छी प्रचुर मात्रा में विटामिन बी कॉम्प्लेक्स, विटामिन बी 12, विटामिन सी, और विटामिन डी मौजूद है जो हमारे शारीरिक, मानसिक, और हड्डियों के स्वस्थ्य के लिए अत्यंत उपयोगी है।

इसके बेहतरीन फायदों का लाभ उठाने के लिए आवश्यक है, की इसे आयुर्वेदिक पद्दति से बनाया जाये।

याद रखे श्रीखंड खट्टा ना हो, अगर इसे सही प्रक्रिया से नहीं बनाया गया और यह खट्टा हुआ तो गठिया के मरीज़ो को घुटने दुखने की समस्या हो सकती है, खट्टा होने पर जिन लोगो को फेफड़ों की समस्या है, उनको भी यह तकलीफ देगा।

श्रीखंड बनाने के लिए सामग्री। (Ingridients for Making Srikhand)

  • दूध : 1.5 लीटर
  • दालचीनी पाउडर: 2 बड़ी चुटकी (लगभग 1.5 ग्राम)
  • इलाइची पाउडर: 1 छोटा चम्मच (लगभग 2 ग्राम)
  • जायफल पाउडर : 2 बड़ी चुटकी (लगभग 1.5 ग्राम )
  • काली मिर्च का पाउडर : 1 छोटा चम्मच (लगभग 2.5 ग्राम )
  • केसर (Saffaron): 1 चुटकी
  • सोंठ (Dry Ginger Powder): 1 टीस्पून (लगभग 4 ग्राम )
  • तमालपत्र (तेजपत्ता) पाउडर (Palm Dry Leaf Powder): 2 बड़ी चुटकी (लगभग 1.5 ग्राम )
  • मिश्री : 350 ग्राम
  • घी : 2 टीस्पून (लगभग 10 ग्राम )
  • शहद (Honey): 3 टीस्पून (लगभग 15 ग्राम )

यह भी पढ़ें –  Gulkand Paan Benefits: गुलकंद पान के आश्चर्यजनक स्वास्थ्य लाभ जो आपको जानना जरूरी है!

श्रीखंड बनाने की विधि (Shrikhand Recipe)

यहाँ मैं आपको बताऊंगा कि (श्रीखंड कैसे बनाते हैं) Shrikhand Kaise Banate Hain। नीचे श्रीखंड बनाने की रेसिपी बताने जा रहा हूँ।

  • श्रीखंड बनाने के लिए सबसे पहले दही का चक्का बनाना पड़ेगा, 500 ग्राम चक्के के लिए लगभग 1.5 लीटर दूध चाहिए, एक दिन पहले मिट्टी के बर्तन में दूध में जामन डाल दे।
  • इसके बाद सफ़ेद रंग के सूती कपड़े के सहायता से दही से पानी अलग करके उस सूती कपडे में दही को 8 से 10 घंटे के लिए बाँध कर रख दे। इसके बाद आपका जो दही का चक्का प्राप्त होगा उसे एक स्टील के बर्तन में निकाल ले।
  • इसके बाद जो सामग्री ली थी, उसमे से मसाले लेंगे जिसमे जायफल पाउडर, तेजपत्ता पाउडर, नागकेसर पाउडर, दालचीनी पाउडर यह सब पूर्व में दी गयी मात्रा के अनुसार 1/4 चम्मच लगभग 1.25 से 1.5 ग्राम लेले। इसके साथ काली मिर्च का पाउडर, इलायची का पाउडर 1/2 चम्मच और केसर 2 चुटकी लेले इन सबको दही के चक्के को मथने के बाद एक एक कर चक्के में मिला ले।
  • फिर इसमें 350 ग्राम मिश्री का पाउडर मिला ले, फिर इसमें 10 ग्राम घी मिला ले और आखिर में 15 ग्राम शहद मिला ले।
  • और इसके साथ तैयार है बेहतरीन स्वास्थवर्धक श्रीखंड, गर्मियों के मौसम में इसका सेवन अत्यंत लाभदायक है। इसे किसी ठन्डे स्थान पर जैसे मटके के पास रखदे, पर फ्रिज में ना रखे क्योकि फ्रिज में वायु बन जाती है जिससे इसे खाने से वायु दोष होने की सम्भावना बढ़ जाती है।

 

आशा करता हूँ, यह जानकारी आपको पसंद आएगी और आपके लिए लाभदायक रहेगी।

लेखक : डॉ सुरेंद्र कुमार शर्मा (आयुर्वेदिक चिकित्सक)

By KOUSHAL KHANDAL

I am a content writer with almost 10 years of experience. I have been associated with Dr. Anil Kumar Sharma & Dr. Surendra Kumar Sharma for the last 6 years. Due to the family legacy and interest in Ayurveda, I started writing content based on Ayurveda under the guidance and proofreading of both doctors.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *