Gulkand Benefits गर्मियों में खाएं गुलकंद और पाएं कई समस्याओं से छुटकाराGulkand Benefits गर्मियों में खाएं गुलकंद और पाएं कई समस्याओं से छुटकारा

गुलकंद एक बहुत ही उपयोगी पित्तशामक औषधि है, जो शरीर की गर्मी को दूर करती है, इसका उपयोग पान में और बहुत सारी दवाओं के साथ में भी किया जाता है। इसका सेवन शरीर के लिए बेहद लाभदायक होता है। फ़ारसी मूल से उत्पन्न, गुलकंद, जिसका अर्थ है ‘मीठा फूल जेम’, गुलाब की पंखुड़ियों और मिश्री का एक स्वादिष्ट मिश्रण है। यह औषधीय गुणों से भरपूर है। हम आयुर्वेद के अनुसार गुलकंद के फायदे (Gulkand Benefits) के बारे में देखेंगे। इसका कैसे सेवन करना है। गुलकंद को घर पर कैसे बनाना है और खाने का तरीका देखेंगे।

गुलकंद क्या है ? (What is Gulkand?)

दोस्तों जब भी आप गर्मी से परेशान हुए होंगे। तो आपके घर के बड़े बुजुर्गों ने गुलकंद खाने की सलाह भी जरूर दी होगी। दादी और नानी के हाथ से बना गुलकंद का तो क्या कहना, वो ना ही सिर्फ स्वादिष्ट होता है बल्कि स्वास्थ्य के लिए भी बेहतरीन माना जाता है।

गर्मियों के मौसम में लोग गुलकंद खाना ज्यादा पसंद करते है, क्योंकि यह शरीर को ठंडक पहुंचाता है। गुलकंद खाने के लिए सबसे अच्छा मौसम गर्मी का मौसम माना गया है। क्योंकि ये शरीर को ठंडा तो रखता ही है साथ में कई शारीरिक बीमारियों से भी हमें दूर रखता है। गुलकंद को गुलाब की पंखुड़ियों से बनाया जाता है। जो बच्चो से लेकर बड़ो तक का स्वास्थ्य ठीक रहता है।

दोस्तों वैसे तो गुलकंद खाने के लिए गुलकंद घर पर बनाना बहुत आसान है। लेकिन आजकल बाजारों में भी गुलकंद तैयार मिलता है जो की खाने में बहुत ही स्वादिष्ट होता है

वैसे आपको बता दे की गुलकंद में मैग्नीशियम, एंटीऑक्सीडेंट और फाइबर की मात्रा बहुत अच्छी होती है। इसीलिए इसे स्वास्थ्यवर्धक भी माना गया है। लेकिन आपको इसका सेवन सही मात्रा में ही करना चाहिए। तभी यह आपको अच्छा फायदा पहुंचाएगा।

गुलकन्द बनाने की विधि (Method of Making Gulkand for Paan)

पान के लिए गुलकन्द बनाने की विधि इस प्रकार से है –

सामग्री :
  • गुलाब के फूल की पत्तियां – 20 -30 फूल की
  • मिश्री पाऊडर – 120 ग्राम
  • शहद – 1/4 चमच्च
विधि :
  1. सबसे पहले हम गुलाब के फूल लेंगे।
  2. अब फूल में से पत्तियों को अलग -अलग कर लेंगे।
  3. फिर हमे एक पतीला लेना है, और इन सब पत्तियों को साफ़ पानी से धोना है।
  4. अब इन पत्तियों को साफ़ कपडे पर 15 -20 मिनट सूखने देंगे।
  5. पंखे की सहायता से 15 -20 मिनट और बिना पंखे के 40 -50 मिनट सुखाएं।
    (ध्यान रहे इन्हे ज्यादा नहीं सुखाना है बस पानी सुखना चाहिए )
  6. अब हम मिश्री लेंगे।
  7. अब हमें एक बाउल लेना है।
  8. उस बाउल में गुलाब की पत्तियाँ और मिश्री पाउडर लेंगे।
  9. फिर हमे मेशर की मदद से क्रश कर लेना है। या हाथ से भी मेश कर सकते है।
  10. और हमें तब तक मेश करना है, जब तक गुलाब की पत्तियां और मिश्री अच्छे से मिक्स ना हो जाएं। (इसको हमे गैस पर बिलकुल पकाना नहीं है क्योकि पकाने से मिश्री की चाशनी हो जाती है। और यह हमारे शरीर के लिए बिलकुल भी हेल्दी नहीं होती है।)
  11. अच्छे से मिक्स होने के बाद हमे इसमें शहद मिलाना है।
    (शहद डालने से गुलकंद जमता नहीं है। )
  12. अब इस बाउल को 5 -6 घंटे तक ढककर रख देंगे।
  13. अब हमें एक कांच का जार लेना है।
  14. तैयार मिक्सचर को हम कांच के जार में डालेंगे।
    (जार साफ़ होना चाहिए पानी की एक बूंद भी नहीं होनी चाहिए )
  15. अब हम कांच के जार को कॉटन कपडे से कवर कर देंगे। और इसे अच्छे से कवर करेंगे जिससे कोई भी कीटाणु जार में नहीं जा सके।
  16. इस जार को हम धुप में रख देंगे।
  17. 8 -10 दिन के लिए यह धुप में ही रहने देंगे।
  18. फिर हमारा गुलकंद तैयार है।
  19. अब इसे हम फ्रिज में स्टोर कर के रख सकते है और इसका सेवन कर सकते है।

इस रेसिपी से आप घर पर स्वादिष्ट गुलकंद तैयार कर सकते है यह गर्मियों के मौसम में अद्भुत मानी जाती है।

गुलकंद के कुछ प्रसिद्ध और अच्छे ब्रांड (Some famous and good brands of Gulkand) –

आजकल एकल परिवार की संस्कृति है, इसलिए घर पर सब चीजे बनाना संभव नहीं है, घर पर ना बना पाए तो बाजार में बहुत से अच्छे ब्रांडो के गुलकंद उपलब्ध है, उन्हें लाकर भी उनका सेवन किया जा सकता है।

गुलकंद के कुछ प्रसिद्ध और अच्छे ब्रांड निम्नलिखित है :-

  • डाबर गुलकंद
  • पतंजलि गुलकंद
  • बैद्यनाथ गुलकंद

उपरोक्त सूची में कुछ प्रमुख ब्रांडों का उल्लेख है, जिन्हें आप गुलकंद की खरीदारी के लिए विचार कर सकते हैं।

स्वास्थ्य के लिए गुलकंद के फायदे – Gulkand Benefits For Health

1. मुँह के छालों से दिलाता है राहत :- गर्मी के मौसम में मुंह के छाले की परेशानी आम बात है, यह ज्यादातर पेट की गर्मी की वजह से होती है गुलकंद का सेवन करने से मुंह के छालों से भी राहत मिलती है और यह कई त्वचा संबंधी परेशानियों से भी छुटकारा दिलाता है।

2. पसीने के खिलाफ रामबाण उपाय :– गर्मी के मौसम में सबसे बड़ी परेशानी पसीने की होती है जिससे हर एक इंसान निजात पाना चाहता है, यह पसीने की समस्या को दूर करता है और शरीर में मौजूद टॉक्सिन्स (toxins) को बाहर निकलने में काफी मदद करता है।

3. दिमाग को रखता है शांत :- गुलकंद खाने का सीधा असर हमारे दिमाग पर भी पड़ता है स्टडीज में यह माना गया है कि गुलकंद का सेवन करने से हमारे मस्तिष्क का स्वास्थ्य बना रहता है और यह दिमाग को भी शांत रखता है।

4. आंखों के लिए बेहतरीन औषधि :- शरीर को ठंडक पहुंचाने के साथ-साथ गुलकंद आंखों को भी ठंडक पहुंचाता है सिर्फ इतना ही नहीं बल्कि गुलकंद आंखों में जलन और मोतियाबिंद जैसी समस्याओं के खिलाफ भी असरदार माना गया है।

5. पाचन संबंधी समस्या पेट की समस्याओं में लाभदायक :- पाचन संबंधी समस्याओं से परेशान है तो गुलकंद का सेवन आपके लिए फायदेमंद होता है। गुलकंद में पाए जाने वाले पोषक तत्व पाचन गैस की समस्या, कब्ज की समस्या को दूर करने में मदद कर सकता है। गुलकंद थकान, दर्द, मांसपेशियों में दर्द और पेट की गर्मी जैसी हेल्थ प्रॉब्लम्स (Health Problems) को दूर करने में कारगर है।

6. त्वचा की समस्याओं में लाभदायक :- गर्मी में कई लोगों को हाथ की हथेली और पैर के तलों में जलन होती है। ऐसे में यह लोग गुलकंद खा सकते हैं खाने के अलग गुलकंद को शरबत बनाने या फिर लस्सी में डालकर के भी ले सकते हैं।

7. जिनको पाइल्स या बवासीर की समस्या है वह भी गुलकंद का सेवन कर सकते हैं। उनके लिए भी काफी लाभकारी बताया गया है

गुलकंद का सेवन करने का तरीका – (Way to Consume Gulkand)

इसका सेवन आप कई तरीको से कर सकते है –

  • इसका सेवन करने से पहले ध्यान रहे की गुलकंद ताजा और शुद्ध हो।
  • गुलकंद को पानी में घोलकर शरबत के रूप में भी ले सकते है।
  • यदि आप गुलकंद का सेवन सीधा करना चाहते है तो आप गुलकंद को धीरे -धीरे चबाएं।
  • आप गुलकंद का सेवन पान के साथ भी कर सकते है गुलकंद का पान बनाकर भी उसका सेवन कर सकते है।
  • मधुमेह वालो को गुलकंद का सेवन ज्यादा मात्रा में नहीं करना चाहिए क्योंकि इसमें शुगर मिलाई जाती है तो मिठास से भरपूर होता है।
  • गुलकंद का सेवन एक बार में एक चमच्च तक का ही करें।
  • इसका सेवन खाना खाने के बाद ही करना चाहिए क्योकि यह स्वाद में मीठा होता है तो स्वाद में मीठा प्रदान करता है। और यह पाचन में भी मदद करता है।
  • इसका सेवन गर्मियों में करना चाहिए क्योकि गुलकंद के सेवन से शरीर को ठंडक मिलती है।

गुलकंद का सेवन किस समय करना चाहिए और क्या लाभ है ? When should Gulkand be consumed and what are its benefits?)

गुलकंद का सेवन किसी भी समय किया जा सकता है, लेकिन कुछ विशेष समय में इसका सेवन अधिक लाभकारी बताया गया है।

खाने के बाद:- गुलकंद का सेवन खाने के बाद किया जा सकता है, जिससे पाचन क्रिया को लाभ मिल सकता है और मीठे स्वाद का आनंद भी मिल सकता है।

खाली पेट:- सुबह खाली पेट गुलकंद का सेवन करना भी लाभकारी हो सकता है, क्योंकि यह शरीर को उर्जा प्रदान कर सकता है और ताजगी दे सकता है।

रात को:- रात को सोने से पहले गुलकंद का सेवन करना सही है। रात को इसका सेवन करने से आपको अच्छी नींद मिल सकती है।

गर्मियों में:- गर्मियों में गुलकंद का सेवन करना अधिक उत्तम होता है, क्योंकि यह ठंडक प्रदान कर सकता है और शरीर को शीतलता महसूस कराता है।

यह भी पढ़ें –Rose Sharbat Benefits: एक स्वादिष्ट और ताज़ा ग्रीष्मकालीन पेय रेसिपी

गर्भवती महिलाओं के लिए गुलकंद का सेवन (Consumption of Gulkand for pregnant women )

गर्मियों का मौसम यूँ तो हर किसी को परेशान करता है, लेकिन इस दौरान गर्भवती महिलाओं को कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ता है। गर्मियों का मौसम उनकी हर परेशानी को भी बढ़ा सकता है। इस मौसम में हमेशा ठंडा खाने और पीने का मन करता है। इस वजह से हमे फ्रिज का खाना खाने की बजाय प्राकृतिक रूप से शरीर को ठंडा देने वाली चीजों का सेवन करना चाहिए और वो है गुलकंद।
गुलकंद आयुर्वेद में औषधि के रूप में यूज किया जाता है, गुलकंद औषधीय गुणों से भरपूर है।

  • गुलकंद का सेवन आप गर्भावस्था में कर सकते है।
  • गुलकंद का सेवन प्रेगनेंसी में होने वाली दिक्कतों से बचाने में काफी लाभदायक होता है।
  • गर्मियों के मौसम में गुलकंद शरीर को ठंडक देता है। गुलकंद की तासीर ठंडी होती है, और इसीलिए गर्मियों के दिनों में गुलकंद का सेवन करने से यह तेज गर्मी से बचाता है, और शरीर को ठंडक प्रदान करता है यही कारण है कि गर्भवती महिलाओं को गर्मी में गुलकंद जरूर खाना चाहिए।
  • गर्भवती महिलाओं को कब्ज, गैस, एसिडिटी (Acidity) जैसी समस्याएं होती है ऐसे में गुलकंद का सेवन पाचन तंत्र में सुधार करता है एसिडिटी (Acidity) गैस पेट में जलन जैसी समस्या भी दूर होती है
  • गुलकंद तनाव को दूर करने में सहायक होता है, और गर्भवती के शरीर में होने वाले बदलाव के कारण कई बार तनाव चिंता रहती है ऐसे में गुलकंद खाने से गर्भवती को अच्छी नींद आती है और तनाव भी दूर होता है इसलिए गर्भावस्था में गुलकंद अवश्य खाना चाहिए।
  • गुलकंद एंटीबैक्टीरियल (Antibacterial) एंटीवायरस (Antivirus) और एंटीऑक्सीडेंट (Antioxidants) से भरपूर होता है इसी कारण यह रक्त को शुद्ध करता है जिससे गर्भवती महिला की स्किन ग्लो करती है और हेल्दी भी रहती है।

आशा करता हूँ यह जानकारी आपके लिए बहुत लाभदायक होगी, इस जानकारी को अपनी सभी महिला मित्रों से अवश्य शेयर करे जिससे वे गुलकंद का सेवन कर एक स्वस्थ जीवन जी सके और गुलकंद से होने वाले स्वास्थ्य लाभ उठा सके।

“मैं आपके अच्छे स्वास्थ और उज्जवल भविष्य की कामना करता हूँ।”

मार्गदर्शक: डॉ. अनिल कुमार शर्मा (आयुर्वेदिक चिकित्सक)

By KOUSHAL KHANDAL

I am a content writer with almost 10 years of experience. I have been associated with Dr. Anil Kumar Sharma & Dr. Surendra Kumar Sharma for the last 6 years. Due to the family legacy and interest in Ayurveda, I started writing content based on Ayurveda under the guidance and proofreading of both doctors.

2 thoughts on “Gulkand Benefits: गर्मियों में खाएं गुलकंद और पाएं कई समस्याओं से छुटकारा”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *