Babchi Benefits in Hindi
शायद आप सभी में से कुछ ही लोगो ने इस पौधे का नाम सुना है। उसका नाम है “बाबची, बाकुची या बावची”। इस पौधे के आयुर्वेद में बहुत सारे फायदे बताये जाते है। इस पौधे के फूल, फल, पत्ती और जड़ में भी औषधीय गुण पाए जाते है। तो चलिए आज हम बाकुची के फायदों (Babchi Benefits in Hindi) और नुकसान, पोषक तत्व आदि के बारे में जानकारी  पढते है।
डिपार्टमेंट ऑफ़ राजस्थान के सीनियर डॉक्टर से रिटायर डॉ. अनिल कुमार शर्मा ने बाबची के बारे में हमें सम्पूर्ण जानकारी दी हैं। यहाँ हम उनके अनुभव को शेयर कर रहे है। बाकुची एक औषधीय पौधा है। इसके सेवन से कई सारे फायदे मिलते है लेकिन यह सबसे अधिक फायदा स्किन से सम्बंधित समस्या में देता है। स्किन में इसके बेहद ही चमकारी फायदे देखे गए है।

बाबची का उपयोगी हिस्सा (Useful Part of Babchi)

दोस्तों आप बाकुची के पौधे का हर हिस्सा का प्रयोग कर सकते है। इस पौधा के जड़ से लेकर फूलों तक औषधीय फायदे है। इनके निम्न फायदे वाले हिस्से है।
  • बाकुची के बीज
  • बाकुची के जड़
  • बाकुची के फूल
  • बाकुची के पत्ते
  • बाकुची के फल

बावची के अन्य नाम (Other Names of Babchi)

बाकुची या बावची (Babchi) का वानस्पतिक नाम सोरेलिया कोरिलीफोलिया (Cullen Corylifolium है। इसके अन्य ये भी नाम हैंः-
1हिन्दीबाकुची (Bacuchi)), बावची
2संस्कृतबाकुची
3अंग्रेज़ीसोरेलिया सीड (Psoralea Seed), मलायाटी (Malayati)
4तमिलकर्पोकरषि, कारवोर्गम
5तेलुगुभवचि, कालागिंजा
6कन्नड़बवनचीगिडा (Bavanchigida)
7मलयालमकरपोक्करी, कोट्टम, कोरकोकील
8उर्दूबाबेची (Babechi)
9पंजाबीबाकुची
10बंगालीहाकुच (Hakuch)
11गुजरातीबाबची (Babachi), बाकुची (Bacuchi)
12मराठीबवची, बाकुची
13उड़ियाबाकुची (Bakuchi)

बावची के औषधीय गुण (Babchi Plant Medicinal Properties)

बावची पौधे का हर हिस्से में औषधीय गुण होते है लेकिन बावची के बीज का ज्यादातर (mostly) प्रयोग में लिया जाता है। यह पौधा अधिकतर भारत और एशियाई देखो में पाया जाता है। आयुर्वेदिक इलाज में इस पौधे की मांग बहुत होती है। ब्रिटिश जर्नल ऑफ डर्मेटोलॉजी पत्रिका में प्रकाशित एक रिसर्च के मुताबिक इस पौधे में केमिकल बाकूचियोल (chemical bakuchiol), कीमो-प्रोटेक्टिव (chemoprotective), एंटी-इंफ्लामेटरी (Anti-inflammatory), एंटीऑक्‍सीडेंट (antioxidant) आदि गुण पाए जाते है। इसके अलावा इसके बीज में कामोत्तेजक (aphrodisiac), जीवाणुरोधी, साइटोटोक्सिक (cytotoxic), सूजनरोधी, उत्तेजक और मूत्रवर्धक गुण
के गुण पाए जाते है।

Bakuchi Benefits in Hindi

यहाँ हम बावची के फायदों के बारे में देखेंगे जो निम्न प्रकार से है: –

1. त्वचा के लिए बाकुची के फायदे (Bakuchi Benefits for Skin)
दोस्तों क्या आप स्किन संबंधी समस्याओं से परेशान है। अगर आपका जवाब है हाँ में है तो आज हम एक ऐसे आयुर्वेदिक औषधीय पौधा के बारे में बताने जा रहे है। जैसा कि आप जानते है ज्यादातर स्किन केयर प्रोडक्ट में  रेटिनॉल का इस्तेमाल एक एंटी-एजिंग तत्व के रूप में किया जाता है। यह रेटिनॉल विटामिन-ए का प्रकार है। कई बार इस रेटिनॉल के कारण स्किन से सम्बंधित समस्या का सामना करना पड़ जाता है। जब बात की जाती है बाकुची की तो ऐसी कोई समस्या का सामना नहीं करना पड़ता है। एक रिसर्च में बताया गया है कि बाबची के प्रयोग करने वालो लोगो में झुरियो की समस्या व दाग-धब्बों की समस्या को बहुत ही कम कर देता है।
2. सांस संबंधी रोगों के लिए बाबची (Babchi Benefits for respiratory diseases)
बाबची में एंटी -इंफ्लेमेंटरी गुण पाए जाते है। जो सांस से संबंधित रोगों के लिए फायदेमंद होता है। डॉ अनिल कुमार शर्मा बताता है कि मैंने अपने जीवन काल में बाबची का सेवन करने वालों में अस्थमा से पीड़ित लोगों को भी सही होते हुए देखा है। वह पूरी तरह से तो अस्थमा से सही नहीं होते है, लेकिन 30-40 प्रतिशत तक इसका असर देखने को मिला था। नेफ्रैटिस, सर्दी-जुकाम, डिस्‍पेनिया आदि समस्या में भी बाबची लिया जा सकता है।
3. कैंसर से बचाव करे बाकुची (Bakuchi Benefits for Cancer)
बाकुची में पाया जाने वाला ओस्टियोसारकोमा (osteosarcoma) वाले गुण फेफड़ो के कैंसर के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। इसके सेवन से फेफड़ों के कैंसर की कोशिकाओं को रोकने में मदद करता सकता है। इसलिए बाकुची के बीज कैंसररोधी के रूप में काम करता है।
4. दांतों के लिए फायदेमंद है बावची चूर्ण (Babchi Churna Benefits for Dental Problems)
दांतो की समस्या के समाधान के लिए बावची का चूर्ण बेहद ही फायदेमंद होता है। दांतो की समस्या जैसे दांतो में दर्द, दांतो में सड़न, पायरिया आदि समस्या का रोगथाम किया जा सकता है। इसलिए दांतों के स्वास्थ्य के लिए बावची पूर्ण का प्रयोग किया जा सकता है।
5. बालों के लिए फायदेमंद है बाबची (Babchi Benefits for Hair in Hindi)
बालों को स्वस्थ बनाये रखने के लिए बाबची का प्रयोग अच्छा माना जाता है। बालों के विकास (ग्रोथ), बालों की मजबूती के लिए, बालों को टूटने से रोकने के लिए आदि में बाबची हेयर टॉनिक्स के रूप में काम करता है।
6. खून साफ करने में फायदेमंद है बाबची (Babchi Benefits for Blood Purification)
बाबची का सेवन खून साफ़ करने में फायदेमंद होता है। हम यह कहे सकते है कि यह नैचुरली ब्लड पूरिफार (Purifier) के रूप में काम करता है। यह शरीर से ब्लड में से अशुद्धियों को निकालता है और शरीर को स्वस्थ बनाता है।
7. बावची के अन्य फायदे (Other Babachi Benefits in Hindi)
  1. बाबची में एन्टीवर्म के गुण पाया जाता है। जिससे पेट में कीड़े होने पर बाबची का सेवन फायदेमंद होता है।
  2. रोज बाबची के पत्ते खाने से दस्त से छुटकारा पाया जा सकता है।
  3. बवासीर से छुटकारा पाने के लिए बाबची का सेवन  अच्छा माना जाता है।
  4. बावची के बीज का चूर्ण को खाने से पीलिया से छुटकारा पाया जा सकता है।
  5. इसे खाने से पाचन क्रिया अच्छी रखती है।
  6. दिमाग तेज करने के लिए इसका प्रयोग फायदेमंद होता है।
  7. यह इम्युनिटी बूस्टर के रूप में काम भी करता है।
  8. पीरियड्स की समस्याओं को दूर करने के लिए इसका सेवन अच्छा होता है।
  9. पुरुषो में नपुंसकता व शीघ्रपतन के इलाज के लिए बाबची का सेवन फायदेमंद होता है।
  10. कफ और वात दोष को संतुलित करने के लिए बाबची चूर्ण का इस्‍तेमाल किया जाता सकता है।

बाबची के नुकसान (Babchi Side Effects)

  • इसके ज्यादा सेवन से उल्टी-दस्त की समस्या हो सकती है।
  • मुँह में छाले हो सकते है।
  • पित्त के बढ़ने की समस्या उत्पन हो सकती है।
  • लीवर से जूझ रहे मरीजों के लिए यह हानिकारक है।
  • सेंसेटिव स्किन वालो के लिए यह हानिकारक माना जाता है।
Note: बावची एक असरदार आयुर्वेदिक दवा है। इसलिए इसका इस्तेमाल डॉक्टर के परामर्श पर ही करना चाहिए।
आशा करता हूँ यह जानकारी आपके लिए लाभदायक रहेगी, और जो लोग नींद की समस्या से गुजर रहे है उनकी नींद की समस्या दूर करने में मददगार होगी।
मार्गदर्शक: डॉ अनिल कुमार शर्मा (आयुर्वेदिक चिकित्सक)

By KOUSHAL KHANDAL

I am a content writer with almost 10 years of experience. I have been associated with Dr. Anil Kumar Sharma & Dr. Surendra Kumar Sharma for the last 6 years. Due to the family legacy and interest in Ayurveda, I started writing content based on Ayurveda under the guidance and proofreading of both doctors.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *